शादी के लिए बायोडाटा कैसे बनाये

लड़की की शादी के लिए बायोडाटा कैसे बनाये

लड़की की शादी के लिए बायोडाटा कैसे बनाये
लड़की की शादी के लिए बायोडाटा कैसे बनाये इसके बारे में हर माँ-बाप को जानना बहुत जरुरी है। कहने वाले ने सच ही कहा है लडकियां अपनी किस्मत खुद लेकर पैसा होती है। उनके पैदा होने से लेकर शादी तक सारी जिम्मेदारी माँ-बाप बड़े ही चाव से निभाते है। शादी के लिए अच्छा लड़का देखना, उसके बारे में जानकारी लेना, सगाई और शादी के दौरान सारी जिम्मेदारियां देखना इस काम को लड़की के माता-पिता बखूबी निभाते है।
लेकिन इनमे भी सबसे ख़ास बात होती है लड़की का बायोडाटा, क्योंकि रिश्ता करने से पहले वर और वधु दोनों पक्ष एक दुसरे का बायोडाटा देखते है। बायोडाटा भी ऐसा होना चाहिए की सामने वाला एक नजर में उसे समझ जाए और कम शब्दों में सब जानकारी मिल जाए। बायोडाटा एक तरह से हमारा आईना होता है।
अगर आप भी अपनी लड़की की शादी के लिए उसका बायोडाटा बनाने चाहते है तो आज की यह पोस्ट आपके लिए ही है। आज की इस पोस्ट में हम आपको बताएँगे की कैसे लड़की का बायोडाटा बनाया जाता है और उनमे किन-किन चीजों का ध्यान रखा जाता है।
बायोडाटा क्या होता है?
बायो डाटा मतलब बायोलोजिकल डाटा जिसमे आम तौर पर हमारी सारी जानकारी लिखी होती है जैसे नाम, धर्म, जाती, लिंग, शिक्षा, कारोबार, परिवार आदि के बारे में सब कुछ लिखा होता है।
लड़की की शादी के लिए बायोडाटा कैसे बनाये
• कोई भी बायोडाटा बनाते समय सबसे पहले भगवान का नाम लिखा जाता है। ज्यादातर लोग गणेश जी या अपने कुलदेवी-देवता का नाम लिखते है। आमतौर पर ज्यादातर श्री गणेशाय नम: लिखा होता है क्योंकि हिन्दू धर्म में ऐसा माना जाता है की भगवान गणेश जी का नाम लेकर जो भी शुभ कार्य किया जाता है वह जरुर पूरा होता है।
• इसके बाद लड़की की जन्म तारिख, मोबाइल नंबर, व्यक्ति की चमड़ी का रंग, लम्बाई, व्यवसाय, शिक्षा, वेतन, जन्मस्थान, जन्मसमय, जाती आदि के बारे में लिखा जाता है।
• लड़की के बारे में लिखने के बाद बरी आती है उसके परिवार के बारे में लिखने की। इसमें लड़की के माता-पिता का नाम, दादा-दादी का नाम, पिता का कारोबार, वंश, घर का एड्रेस, भाई-बहन आदि परिवार के सदस्यों के बारे में लिखा जाता है।
• इसके बाद लड़की मांगलिक है या नहीं, यह भी बायोडाटा में बताया जाता है। अगर लड़की मांगलिक है तो लड़के का भी मांगलिक होना जरुरी है। अगर उनकी उम्र 27 साल से ज्यादा है तो कोई जरुरी नहीं है, क्योंकि इस दौरान मंगल आप पर से उतर जाता है।
• इसमें लड़की की आदतें, शौक आदि के बारे में लिखा जाता है की उसे क्या-क्या पसंद है। इससे लड़की के बारे में जानने में ज्यादा अच्छा रहता है।
आज की इस पोस्ट में आप अच्छे से जान गए होंगे की लड़की की शादी के लिए बायोडाटा कैसे बनाते है। उम्मीद करता हु की आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी और अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और कमेंट बॉक्स में अपने विचार दे ताकि हम आगे भी ऐसी अच्छी से अच्छी पोस्ट लिख सके।





Previous Post
wedding card design
Hindi शादी के कार्ड

Shadi Cards Matter In Hindi | Shadi Cards Designs | शादी कार्ड डिजाइन

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Content is protected !!