couple-bed-sleep

क्या शादी के बाद अलग सोने से नुक्सान तो नहीं?

पति पत्नी के अलग सोने के फायदे

सुनने में अजीब लगता है ना पति पत्नी और अलग सोएंगे? ये तो डिवोर्स वाली स्थिति लगती है, है ना? शायद आप जानकर हैरान होंगे कि भारत ही नही दूसरे देशों में भी कई बार पति पत्नी का साथ सोना डिवोर्स की वजह बनता है। इसे स्लीप डिवोर्स कहा जाता है, पहले ये केवल विदेशों में सुना जाता था। लेकिन अब आप अदालत में आने वाले तलाक के केसेस पर निगाह डालेंगे तो हैरान रह जाएंगे। इसके एक नही कई कारण हो सकते है, उनमे से कुछ कारण निम्न है-

1-खर्राटे लेना

किसी एक पार्टनर का खर्राटे लेना दूसरे पार्टनर की नींद हराम कर सकता है। ऐसे में नींद ना पूरी होने पर जीवनसाथी चिड़चिड़ा रहने लगता है, ज्यादा समय तक यही स्थिति रहने पर रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने लगती है। जिससे जीवनसाथी जल्दी जल्दी बीमार भी हो सकता है।

2-चिपककर सोना

कुछ लोगो को जीवनसाथी से चिपककर सोने की आदत होती है, जबकि पार्टनर फ्री होकर सोना चाहता है। शुरू में लाड़ प्यार में वो कुछ दिन ये सब झेल सकता है लेकिन लम्बे समय तक नही। इस कारण होने वाली चिड़चिड़ाहट जल्द ही झगड़ो में तब्दील होने लगती है।

3-गैस्ट्रिक प्रॉब्लम

कई लोगो को रात को हैवी खाना खाने फिर रात भर गैस पास करने की आदत होती है। ये बहुत ही हास्यस्पद बात है लेकिन सच है। पार्टनर पूरी रात ऐसे माहौल में परेशान हो जाता है।

4-बड़बड़ाने की आदत

काफी लोग होते हैं जो पूरे दिन का लेखा जोखा रात को ही देते है। लेकिन आमने सामने नही, नींद में वो भी इतनी जोर जोर से बड़बड़ा कर की बराबर में लेटा जीवनसाथी बार बार नींद से हड़बड़ाकर उठ जाता है। जब तक वो झिंझोड़ कर चुप ना कराए ये स्थिति ऐसी ही रहती है।

5-सोने का अलग समय

यदि पति पत्नी के सोने जागने का समय अलग हो तो कुछ गड़बड़ तो होनी ही है। मान लीजिये पत्नी 10 बजे तक सो जाती है लेकिन पति 12 से पहले नही सोता तो वो पत्नी की नींद खराब करेगा ही। ये स्थिति उन घरो में ज्यादा होती है जहाँ पति की वर्किंग शिफ्ट बदलती रहती हो या पति पत्नी की वर्किंग शिफ्ट अलग हो।

6-जरूरी कारण

पत्नी की गर्भावस्था लेकर आगे के कुछ महीनों का टाइम भी बहुत सेंसेटिव होता हैं। इस समय पर जहां उसे पूरी नींद की आवश्यकता होती है वहीं सेक्स सम्बंध बनाना भी कई बार हानिकारक होता है। साथ में सोने पर सम्बन्ध बनाने के चांसेस ज्यादा होते है इसलिए इस समय पर अलग सोना सही है। डिलीवरी के बाद भी कुछ समय तक बहुत नाजुक स्थिति होती है ऐसे में पति मदद के लिए उस कमरे में सोए पर अलग बिस्तर पर।

अलग सोने के फायदे

1-दुर्घटना के कम चांस

मान लीजिए सुबह जल्दी ही आपको कही जाना हो और आपकी या आपके पार्टनर की नींद पूरी ना हो तो क्या होगा? दुर्घटना के चांसेस बढ़ जाएंगे, और यदि दूरी लम्बी हो तथा दोनो को ही ड्राइविंग करनी हो तो स्थिति और भी विकट हो सकती हैं। गाड़ी चलाते समय आई एक झपकी भयंकर दुर्घटना का रूप ले सकती है। इसी प्रकार यदि पार्टनर का काम मशीनों को हैंडल करना है तो एक झपकी किसी भी बड़ी औद्योगिक दुर्घटना में बदल सकती है। इससे केवल एक व्यक्ति की जान को खतरा नही होता बल्कि काफी बड़े पैमाने पर जान माल का नुकसान हो सकता है। आपने सुना ही होगा कि ट्रेन ड्राइवर या ट्रक ड्राइवर की एक झपकी से कितनी बड़ी दुर्घटना हो जाती हैं।

2-बीमारियों में लाभदायक

कुछ बीमारियों में डॉक्टर पूरी नींद लेने की सलाह देते है। क्योंकि इन बिमारियों में कम नींद भी हानिकारक होती हैं या कहा जाए इन बीमारियों का एक कारण कम नींद लेना भी है। ये बीमारियां है एंग्जायटी, थाइरोइड, पसनील डिसऑर्डर, पैनिक अटैक, दिल को बीमारी, डिप्रेशन, लिवर की बीमारी, मोटापा

स्पेशल नोट(ऐसे में क्या करे)

अलग अलग सोने का ये अर्थ बिल्कुल नही है की आपके बीच रिश्ते ठीक नही है या प्यार कम हो गया है। असलियत में ये आपका अपने जीवनसाथी के प्रति प्यार दर्शाने का ही एक तरीका है। आपके बीच मे इतनी अंडरस्टैंडिंग होनी ही चाहिए, अपने जीवनसाथी की सुविधा का ध्यान रखे। आप अपने रिश्तें को खुद ही सम्भाल सकते है। एक दूसरे को समय देने के लिए वीकेंड को चुने, पहले अपनी स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करे जैसे जानने की कोशिश करें कि आपको खर्राटे क्यो आते है। आप नींद में क्यों बड़बड़ाते है, एंग्जायटी, डिप्रेशन, पैनिक डिसऑर्डर का इलाज कराए फिर वैवाहिक जीवन का आनंद ले। रूटीन बनाये, एक दूसरे के साथ थोड़ा एडजस्ट करने की कोशिश करें। जिन बातों का हल आप कर सकते हैं उन पर जरूर ध्यान दे। जैसे रात को भोजन हल्का रखे, ताकि गैस्ट्रिक प्रॉब्लम ना हो। मोटापा घटाए क्योंकि ये भी खर्राटे लेने का एक कारण हैं।
जीवनसाथी की समस्याओं को समझें और उन्हें सुलझाने की कोशिश करे। आपस में ईमानदारी और खुली बातचीत रखे।

 
Next Post
The indian prayer prepraing the worship items for thread ceremony (puja, pooja) of indian wedding event with Ganesha statue (Hindu god of wisdom)
Hindi

क्यों होता है कुआँ पूजन?

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Content is protected !!