images (13)

बायोडाटा और सीवी में क्या अंतर है?

सीवी और बायोडाटा का उपयोग तो हर कोई करता है लेकिन इनमे क्या अंतर है इसके बारे में कम ही लोग जानते है। काफी लोग तो रिज्यूम, सीवी और बायोडाटा तीनो को एक ही समझते है लेकिन तीनों में अंतर है। आज की इस पोस्ट में हम आपको बायोडाटा और सीवी के बारे में बताएँगे की इन दोनों में क्या अंतर है और कैसे यह एक-दुसरे से अलग है।

बायोडाटा क्या है?

बायोडाटा का पूरा नाम बायोलोजिकल डाटा है जिसमे व्यक्ति की पूरी पर्सनल इनफार्मेशन जैसे जन्म तिथि, जन्म स्थान, जन्म समय, जेंडर, नेशनलिटी, मेरिटल स्टेटस, रेसिडेंस आदि सब होता है। इसमें एजुकेशन और प्रोफेशनल डिटेल्स भी होती है।       खासकर शादी से पहले बायोडाटा भेजा जाता है जिसमे मैरिज बायोडाटा कहते है जिसमे व्यक्ति की पूरी जानकारी होती है। इसके अलावा बायोडाटा को गवर्मेंट जॉब या रिसर्च ग्रांट के लिए अप्लाई करने में भेजा जाता है। इंटरनेशनल मार्किट में बायोडाटा कॉमन चीज नहीं है लेकिन कोर्पोरेट कल्चर में बायोडाटा ज्यादा मायने नहीं रखता वहां सिर्फ रिज्यूम और सीवी चलता है।

सीवी क्या है?

सीवी का पूरा नाम करिकुलम विटे है। इसमें रिज्यूम से ज्यादा डिटेल्स होती है इसलिए इसे “कोर्स ऑफ़ लाइफ” भी कहते है। सीवी 2 या 3 पेज का होता है और कई बार जरूरत के हिसाब से लम्बा भी हो सकता है। सीवी में स्किल्स, पुराना जॉब, डिग्री, प्रोफेशन आदि सबके बारे में काल क्रम के हिसाब से बताया जाता है। सीवी में किसी स्पेशिफिक स्किल्स को हाईलाइट करने की बजाय जनरल टैलेंट को तवज्जो दी जाती है।

सीवी और बायोडाटा में प्रमुख अंतर

  • फ्रेश ग्रेज्युट और ऐसे लोग जो करियर बदलना चाहते है उनके लिए सीवी सही है और गवर्मेंट जॉब या रिसर्च ग्रांट में अप्लाई करने के लिए बायोडाटा सही है।
  • बायोडाटा का ज्यादा प्रयोग इंटरनेशनल मार्किट में किया जाता है जबकि सीवी का प्रयोग कोर्पोरेट कल्चर में किया जाता है।
  • सीवी में आप उन टारगेट और अचीवमेंट को शामिल कर सकते है जिन्हें आपने हासिल किया है जबकि बायोडाटा में इनकी कोई जरूरत नहीं है।
  • सीवी बायोडाटा से बड़ा होता है जबकि बायोडाटा हद से हद एक पेज या 2 पेज में पूरा हो जाता है।
  • सीवी को इंटरव्यू में सलेक्ट होने के बाद भेजा जाता है जबकि बायोडाटा को शादी से पहले या गवर्मेंट जॉब में अप्लाई करने आदि के लिए भेजा जाता है।
  • बायोडाटा में फैमिली डिटेल्स को विस्तार से बताया जाता है जबकि सीवी में सिर्फ माता और पिता के बारे में बताया जाता है वो भी सिर्फ उनका नाम।
  • सीवी में सिर्फ जन्म तिथि होती है जबकि बायोडाटा में जन्म तिथि के साथ-साथ जन्म समय और जन्म स्थान भी होता है।

आज की इस पोस्ट में आप अच्छे से समझ गए होंगे सीवी और बायोडाटा क्या है और दोनों में क्या अंतर है। उम्मीद करता हु की आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी और अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे और कमेंट बॉक्स में अपने विचार दे ताकि हम आगे भी ऐसी अच्छी से अच्छी पोस्ट आपके बीच ला सके।





 

Previous Post
images (15)
Uncategorized

क्यों जरुरी होता है मैरिज बायोडाटा?

Next Post
शादी के लिए बायोडाटा कैसे बनाये
Hindi

कैसे करे किसी का मैरिज बायोडाटा देख कर जज?

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *